Business Point

जानिए कैसे म्‍युचुअल फंडों में SIP के जरिये निवेश कर काट सकते हैं ज्यादा मुनाफा ,जाने इसका उपाय 

आज के समय में लोगों को ये बताने की जरूरत नही है कि सिस्टेमैटिक इंवेस्टमेंट प्लान (SIPs) क्या है। वे म्‍युचुअल फंड्स में बुद्धिमत्तापूर्ण तरीके से निवेश के विकल्प के रूप में उभरे हैं। एसोसिएशन ऑफ म्‍युचुअल फंड्स इन इंडिया (AMFI) के अनुसार SIP Accounts की संख्या 5.17 करोड़ है। इनके जरिए इंवेस्टर्स अलग-अलग म्‍युचुअल फंड स्कीम्स में इंवेस्ट करते हैं। हालांकि, इंवेस्टमेंट के किसी भी अन्य विकल्प की तरह SIPs से जुड़े हर पहलू के बारे में समझना जरूरी है। इससे आपको अधिकतम रिटर्न प्राप्त करने में मदद मिलती है।

चीजों को सिंपल रखिए

SIP से बेस्ट रिजल्ट प्राप्त करने के लिए चीजों को सिंपल रखना चाहिए। आप इंवेस्टमेंट के लिए उस फ्रिक्वेंसी को चुनिए जिसे आप आसानी से दे सकते हैं। यह एक मिथक है कि आपकी SIPs की फ्रिक्वेंसी से रिटर्न तय होता है। इस समय कई तरह की ऐसी SIPs हैं, जो मार्केट की मौजूदा परिस्थितियों के हिसाब से आपको SIPs को टाइम करने की सुविधा देती हैं।

उदाहरण के लिए, एक ऐसी SIP भी मौजूद है जो मार्केट में तेजी के समय रकम को कम कर देती है और गिरावट के समय उसे बढ़ा देती है। पहली नजर में यह आइडिया बिल्कुल परफेक्ट नजर आता है लेकिन ऐसा है नहीं। अधिकतर इंवेस्टर्स के केस में यह मुश्किल है कि गिरावट के समय उनके इंवेस्टमेंट की वैल्यू में इजाफा हो। दूसरी ओर, ये भी हो सकता है कि बाजार में गिरावट के समय आपके पास ऐसा करने के लिए जरूरी फंड ही उपलब्ध ना हो।

यह केस भी अन्य SIPs की तरह ही नजर आता है। इसलिए एक निश्चित तारीख को एक निश्चित रकम इंवेस्ट की जाने वाली SIP सबसे सही विकल्प है।

लंबी-अवधि का अप्रोच रखिए

SIP किसी टेस्ट मैच की तरह होता है, जिसमें आपको धैर्य रखने के साथ-साथ अनुशासित होने की जरूरत होती है। अध्ययन दिखाते हैं कि SIP की अवधि जितनी लंबी होती है, दोहरे अंकों में कमाई की गुजाइश भी उतनी अधिक होती है।

आम तौर पर भारत में शेयर बाजार में गिरावट का सिलसिला एक बार में 12-24 महीने तक चलता है। ऐसे में तीन साल की SIP भी आपको नुकसान की भरपाई और बाजार में तेजी का फायदा देने का क्षमता रखती है।

यहां ध्यान रखने वाली बात है कि SIPs की वास्तविक वैल्यू उस वक्त होती है जब मार्केट गिरावट में होता है क्योंकि तब आप उतनी ही कीमत में ज्यादा यूनिट्स खरीद पाते हैं। इससे खरीद की लागत का औसत बेहतर हो जाता है। बाजार में गिरावट के समय SIP रोकने से आपको नुकसान हो सकता है क्योंकि फिर इसका असली मकसद ही अधूरा रह जाता है।

जल्दी शुरुआत कीजिए

निवेश की जल्द शुरुआत से आपके पैसे को ग्रो करने का समय मिलता है और आपको कम्पाउंडिंग का फायदा उठाने में भी मदद मिलती है। धन के सृजन में कम्पाउंडिंग का कई गुना असर देखने को मिलता है। इसे एक उदाहरण से समझते हैं। मान लीजिए कि आप 25 साल की उम्र मे एक SIP शुरू करते हैं और हर माह उसमें 1,000 रुपये जमा करते हैं। आप 60 साल की उम्र तक ऐसा करना जारी रखते हैं। अगर हर साल आपको 10 फीसदी के दर से रिटर्न मिलता है तो 60 साल की उम्र तक पहुंचते-पहुंचते उस इंवेस्टमेंट की वैल्यू 7 करोड़ रुपये हो गई होगी।

किसी भी प्रकार के कवरेज के लिए संपर्क @adeventmedia:9336666601- अन्य खबरों के लिए हमसे फेसबुक पर जुड़ें। आप हमें ट्विटर पर फ़ॉलो कर सकते हैं, और हमारे यूट्यूब चैनल को भी सब्सक्राइब कर सकते हैं।

Related Articles

Back to top button