NationalTrending/Viral

कोरोना वैक्सीन की बर्बादी का मामला सामने आया

कोरोना महामारी को लेकर लोगों में बना हुआ है डर और वैक्सीन के इंतजार ने बांधी है उनकी हिम्मत।

टीकाकरण के तीसरे दिन मंगलवार तक कई राज्यों में डोज बेकार हो जाने की जानकारी सामने आई है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक, पांच मिलीमीटर की मात्रा के हिसाब से एक वायल (शीशी) से 10 लोगों को कोरोना की वैक्सीन दी जा सकती है। बच गई थोड़ी-बहुत मात्रा भी फेंकी नहीं जा सकती है। ऐसे में कई जगह कर्मचारियों के कम संख्या में पहुंचने और कई जगह टीका लगवाने वालों की अपेक्षित संख्या नहीं होने से डोज बर्बाद हो रही है।

ज्यादा खराब स्थिति पंजाब की जहां अभी तक 156 डोज की बर्बादी हुई है। बंगाल की ममता सरकार ने इसपर काबू पाने के लिए नया निर्देश जारी किया है। बिहार और मध्य प्रदेश में 10 लोगों के पहुंचने पर ही शीशी खोली जा रही है।

आपको बता दें वैक्सीन की एक शीशी में दस खुराक होती है। शीशी को आइस बाक्स से निकाल लिए जाने के बाद जल्द इस्तेमाल जरूरी है। खुल जाने के बाद शीशी को सिर्फ चार घंटे तक ही रेफ्रिजरेटर में रखा जा सकता है। इसके बाद यह खराब हो जाती है।

झारखंड व पंजाब के लुधियाना और गुरदासपुर में कोई डोज खराब नहीं हुई। डीएमसी और सीएमसी में दस लोगों के जमा होने पर ही शीशी खोली जा रही है। इससे एक बार में ही पूरी शीशी का इस्तेमाल हो जाता है।

किसी भी प्रकार के कवरेज के लिए संपर्क @adeventmedia:9336666601- 
अन्य खबरों के लिए हमसे फेसबुक पर जुड़ें।
आप हमें ट्विटर पर फ़ॉलो कर सकते हैं.
हमारे यूट्यूब चैनल को भी सब्सक्राइब कर सकते हैं।

Related Articles

Back to top button