Trending

बेरुत धमाकों से जनता में आक्रोश: सरकार ने दिया इस्तीफा

बेरुत में हुए इन भयावह धमाकों में लगभग 200 से भी अधिक लोग मारे गए और कई हजार लोग घायल हुए। धमाकों के बाद विरोध प्रदर्शन लगातार बढ़ता ही जा रहा है लिहाजा मंत्रियों को अपने इस्तीफे देने पड़े।

लेबनान के बेरूत शहर में वह विनाशकारी विस्फोट, जिसमें 158 लोगों की मृत्यु हो गई और 6000 से अधिक लोग घायल हो गये, के कारण नाराज जनता लगातार राजनेताओं के इस्तीफे की मांग कर रही थी। यहां दर्जनों प्रदर्शनकारियों ने विदेश मंत्रालय में तोड़फोड़ की। उन्होंने राष्ट्रपति मिशेल औउन की तस्वीरों को जलाया, जिसमें कई राजनैतिक वर्ग के प्रतिनिधि भी थे जिन्होंने कई वर्षों तक लेबनान पर शासन किया था। प्रदर्शनकारियों का कहना है कि यही लोग मौजूदा हालत के जिम्मेदार हैं।

लगातार चल रहे इस विरोध में प्रदर्शनकारियों ने इस राजनेताओं से इस्तीफे की मांग करते हुए पोस्टर में लिखा तुम सब हत्यारे हो। इन विरोध के बाद लेबनान के प्रधानमंत्री हसन दीब अपने 4 कैबिनेट मंत्रियों के इस्तीफे के बाद अपनी सरकार के इस्तीफे की घोषणा की।

इससे पिछले हफ्ते बेरुत में हुए विस्फोट के बाद से लेबनान की न्याय मंत्री मैरी क्लाउड नजम और उसके बाद चौथे मंत्री के रूप में यहां के वित्त मंत्री गाजी ने भी प्रधानमंत्री को अपना इस्तीफा सौंप दिया। सूचना मंत्री मेनल अब्देल समद और पर्यावरण मंत्री दामियानोस कटार ने रविवार को ही अपना इस्तीफा दे दिया था।

बेरुत में हुए इन भयावह धमाकों में लगभग 200 से भी अधिक लोग मारे गए और कई हजार लोग घायल हुए। धमाकों के बाद विरोध प्रदर्शन लगातार बढ़ता ही जा रहा है था लिहाजा मंत्रियों को अपने इस्तीफे देने पड़े।

On the afternoon of 4 August 2020, two explosions occurred at the port of the city of Beirut, the capital of Lebanon.

फ्रांसीसी राष्ट्रपति मैक्रो ने पिछले हफ्ते सरकार के किसी भी मंत्री के घटनास्थल पर जाने से पहले ही हालातों का जायजा लिया था।  इस दौरान लोगों ने इस धमाके के विरोध में जमकर नाराजगी जताई और राष्ट्रपति से मामले में हस्तक्षेप करने का आग्रह किया। मैक्रो ने लोगों से सीधा मदद देने का वादा किया और उन्होंने वैश्विक नेताओं से 250 मिलियन यूरो की मदद मांगने में भी रविवार तक सफलता हासिल कर ली थी।

Tags

Related Articles

Close