EntertainmentFeature Yourself

वरिष्ठ फनकार खुर्शीद अली खान जी

वैसे तो पूरी दुनिया में रफी साहब के दीवाने बहुत हैं लेकिन एक वरिष्ठ फनकार खुर्शीद अली खान जी बरेली में रहते हैं जो पिछले 39 सालों से रफी साहब की याद में एक शाम का आयोजन करते हैं उन्होंने बताया की रफी साहब से उनका एक अजीब सा नाता है बचपन में जब वह संगीत सुनते थे तो उनके अंदर एक हलचल सी मचती थी खुर्शीद अली खान आज एक मशहूर गजल गायक एवं सिंगर हैं जो बच्चों को क्लासिकल सिंगिंग सिखाते हैं और उनका मानना यह है की पुराने गानों के साथ जो छेड़छाड़ की जाती है उनको रिमिक्स बनाया जाता है वह उसके बिलकुल खिलाफ है वह चाहते हैं कि आजकल के युवा पीढ़ी को यह पता चले की कौन से मेलोडियस सोंग्स हैं और कौन सी आजकल के गाने हैं खुर्शीद अली खान जी का कहना है कि आजकल के गाने उनकी समझ से बाहर है उनमें वह बात नहीं है जो पुराने गानों में मौजूद थी ! अजीत सिंह जी गुलाम अली जी पंकज उदास जी इत्यादि के साथ उन्होंने मुंबई में काम किया है ! खुर्शीद अली खान एक उम्दा गजल गायकार है और आजकल की युवा पीढ़ी को इन सभी वरिष्ठ संगीतकारों से सीखने को प्रेरित करते हैं]

Related Articles

Close